Hindi Love Poem – Khwabo mein jab aate ho

ख्वाबों में जब आते हो – हिंदी कविता 

ख्वाबों में जब आते हो 

क्यों इतना तड़पाते हो 

दिल के बाग़ के गुलाब हो तुम

क्या कहूँ कितने लाजवाब हो तुम

तुम्हें देख कर आहें भरती हूँ 

न दिखो कभी तो डरती हूँ 

ओ मेरे मन मंदिर के राजा 

करलो मुझसे अब इक वादा

छोड़ोगे न मेरा दामन  

चाहे बीतें जन्मों जनम 

Dard ke kuch tukdey jodne chala hai dil-Hindi Love Poem

Dard ke kuch tukdey jodne chala hai dil

Dard wo jo gum ke hatho kabhi pala tha

Dard wo jiski siski hamesha khamoshi mein thi gum

Dard wo jiske aansu piyey the aur pitey aye hain aaj bhi hum

Dard wo jis se rishta apna bada purana hai

Dard wo jo na badla badal gaya bhale zamana hai

Haan Mujhe Tumse Hui Mohabbat Hai-Hindi Love Poem

हाँ मुझे तुमसे हुई मोहब्बत है..

हाँ मुझे तुमसे हुई मोहब्बत है..

तुम जो दिन – रात ख्वाबों में समाये हो..

तुम  ही मेरे खयालों में अब छाए हो..

जब सोचता हूँ तुम्हारे दीदार के बारे में..

तब  दिल  में  मीठा  दर्द  उठ  जाता  है..

लोग  समझाते  हैं  मुझे  क्या  करते  हो ..

इश्क करना ठीक पर थोड़ा थोड़ा करते रहो..

लेकिन इनको  कौन समझाए आखिर..

इश्क में क्या कम और क्या थोड़ा होता है..

तुम जैसा दिलदार जिसकी किस्मत में आ जाये..

उसकी दीवानगी का कोई साहिल नहीं होता है..

अब तो तुम्हारी आँखों के जाम पी कर..

तुम्हारी बातों की मिठास में जी कर…

ये ज़िन्दगी गुज़रेगी.. यूँ ही .. यूँ ही.. यूँ ही…

Wo teri zulfo ka lehra kar bikharna..

Wo teri zulfo ka lehra kar bikharna..

Wo tera zulfo ko ungliyo se sehlana..

Wo tere chehre ka chand se tez noor..

Wo tera ankho se teer chala ke dil ko karna choor..

Wo tera mast mast chal mein chalna..

Kabhi dheere dheere aur kabhi tez tez chalna..

Wo tere komal hatho ki narmi..

Wo teri har baat mein pyaar ki khushbu..

Kya batau tujhe oo mere pyaare qatil..

Wo tera har baar mera qatal ankho se karna..

Aur mera yu hi ghayal ho ke girna ..

Aur phir gir ke sambhalna…

जब से तुम मिले हो-हिंदी कविता

जब से तुम मिले हो मेरे जानम

दूर हुए हैं सारे गम

भूल गए हम कि क्या थे हम

ये भी याद नहीं अब क्या हैं हम

शीशा देखें तो याद आते हो तुम

सुबह की किरण से मुस्कुराते हो तुम

फूलों से खूबसूरत और कमल से कोमल हो तुम

लाखों करोड़ों में एक चाँद की सूरत हो तुम

तुमसे क्या कहें कि कितनी प्यारी मूरत हो तुम

हम तो यह ही सोचते रह जाते हैं

कि तुमको निहारें या तुम्हारी कारीगरी को

–  अनुष्का

इश्क में कैसा ये मंज़र आ रहा है

इश्क में कैसा ये मंज़र आ रहा  है

तेरा नशा रातों में अब जगा रहा है

अगर खुदा ने पूछा मुझको क्यों भुला दिया है

तो मैं कह दूंगा कि ये सब दिलदार का किया हुआ है

जो पी लेते हैं तेरी मस्त मस्त आँखों के जाम

वो हो जाते हैं तेरे बिना खरीदे हुए  गुलाम

हम और किसी की क्या कहें अपना ही बुरा है हाल

सुना है कि जितनों को तूने लूटा है सब हुए माला माल

तो  हम भी चले आये और तेरे दर पे दे दिया धरना

अब तू दे दे प्यार या मारे जूते हमको इस से क्या करना

 

 

 

Na hu main is kabil – Hindi Poem

Na hu main is kabil, kya batau hu kitna main jahil..
Jo tha mujhko gumaan, ki jhuka dunga sara jahan..
Tujhe mil ke hi to jana hai, ki khud kya hu hasti main?
Andhi chale gum ki to ro main du, khushi mein kya bada jo muskura bhi du?
Maya ke galiyaro mein, tha khud hi ko bhula main..
Is nasheman ki duniya se, tune hi to nikala hai..
Tere baare mein kya bolu, kya kisi se bhi keh main saku…
Jahan dekhu, dikhta hai sab tera jadu..

मेरे क़ातिल -हिंदी शायरी कविता

तेरे खंजर से हो कर घायल.. कौन न बनाना चाहेगा तुझे क़ातिल

चोट खा के तुझसे ये मेरा दिल, पा ही लेगा एक दिन अपनी मंज़िल |

तू यूँ ही मुस्कुराया करे हर पल.. चाहे हो या न हो तू मुझे हासिल |

सजी रहे यूँ ही तेरी हर महफ़िल, और दीदार तेरा होता रहे मेरे क़ातिल |

Hindi Doha Collection (Offbeat)

Santan ki waani suno…
Nitya karo gun kaan..
Antah Man sheetal kare..
Bhagaye andhkar agyaan.

————————————————————

Sant kahi tu hi saach hai.
So hi kah Ved ka gyaan..
To ku jaan ke baad na hai..
Koi shanka, koi agyaan..
Ek sant moh mil gayo..
Naam Kripalu kahaye…
Kahi Antah-karan sheetal karu.
De assu-an mala banaye..

—————————————————————

Kou kah mandir mein rahu..
Kou kah mazjid mein jaan..
Sant kah ouu sab jagah milu..
Kan kan mein rah samaan..

——————————————————————————————————————————

By Anushka Suri

Tune jabse haath yu mera thaama hai

Tune jabse haath yu mera thaama hai..
Bhula diya maine jab khud hee ko..
Ab kya ye duniya kya ye zamana hai?

Chod kar sabko jo tujhe yaad kiya..
Tune akar mujhe barbaad kiya..
Cheen ke chain mujhe bechain kiya..
Dil ye lekar mera, dard-e-dil jo diya..
Par haiye.. ye dard kitna suhana hai..
Tune jabse hath yu mera thaama hai..

Dard e dil mein aisa aya maza..
Pa ke tujhko rahi koi na raza..
Tham le mujhko ya dede tu saza..
Main to teri hi bas rahungi sada..
Ye jo shikwa hai ye bahaana hai..
Tune jabse hath yu mera thaama hai..