Tujhe paane ki tamanna- Love Poem

तुझे पाने की तमन्ना कल भी थी

तुझे पाने की आरज़ू आज भी है

ज़माने की परवाह कल भी न थी

ज़माने का डर आज भी न है

तुझसे मिल के भी न मिल सकी मैं

इस ग़म का दिल में ज़ख्म है बन गया

जो मैं मर भी जाऊ अगर

खुदाया तुझे न भूल पाउ मैं

खुश रहे तू जहा भी रहे

मिल जाये तुझको हर ख़ुशी

तेरे साथ न रह सके तो क्या गिला

ख़ुशी इसी में है कि हम मिले थे कभी

(लेखिका : अनुष्का सूरी )

Advertisements

2 thoughts on “Tujhe paane ki tamanna- Love Poem

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s