मेरे क़ातिल -हिंदी शायरी कविता

तेरे खंजर से हो कर घायल.. कौन न बनाना चाहेगा तुझे क़ातिल

चोट खा के तुझसे ये मेरा दिल, पा ही लेगा एक दिन अपनी मंज़िल |

तू यूँ ही मुस्कुराया करे हर पल.. चाहे हो या न हो तू मुझे हासिल |

सजी रहे यूँ ही तेरी हर महफ़िल, और दीदार तेरा होता रहे मेरे क़ातिल |

Advertisements

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s