रौशनी है प्यारी सभी को-हिंदी कविता

रौशनी है प्यारी सभी को

अंधकार से किसको प्यार है?

ज्ञान के दीपों के आगे..

अज्ञान को क्या अधिकार है? ..

सूरज की किरणों के आगे…

रात ने सुबह बुलाई है..

हर दिन उज्जवल हो अपना..

यही कामना करते हैं..

कौन है वो, जो रोज़ ही..

बदली को थामा करते है?

छाई हो घनघोर घटा..

या हो चाँद भी छुपा-छुपा..

सितारों की टिमटिमाती सी बाती ..

गुप-चुप  कुछ कह जाती है..

उठो जागो.. बढ़ते चलो.. ये संसार तुम्हारा है..

पराजय की कल्पित दुःख को भूलो..

स्वर्ण विजयी कल हो जाओगे..

उठो जागो.. बढ़ते चलो..

थको न.. न ही हारो रे मन..

संघर्ष का नाम ही है जीवन..

उठो जागो बस बढ़ते चलो…

Advertisements

3 thoughts on “रौशनी है प्यारी सभी को-हिंदी कविता

  1. thanks,your idealogy will motivat to other to recover from sadness & will rout to wards path of bright life. ” prembharti” rk

  2. Pingback: Tweets that mention रौशनी है प्यारी सभी को-हिंदी कविता « Anushka Suri's Blog -- Topsy.com

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s